गुरुवार, 28 फ़रवरी 2019

पंछी, दरिया, पवन के झोंके। कोई सरहद न इन्हें रोके

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें